सरकारी योजना/भर्ती ग्रुप

Success story: पारले-जी की अद्भुत यात्रा, एक साधारण बिस्किट से राष्ट्रीय धरोहर तक

Success story: पारले-जी सिर्फ एक बिस्किट नहीं है; यह लाखों भारतीयों के लिए यादों का प्रतीक है, एक सांस्कृतिक आइकन है जिसने पीढ़ियों को जोड़ा है। इसके निर्माण के बाद से, पारले-जी ने न केवल भारतीय बिस्किट बाजार को बदल दिया है, बल्कि दुनिया भर के लोगों के दिलों को भी जीत लिया है। यह कहानी है कि कैसे एक साधारण, स्थानीय रूप से निर्मित बिस्किट एक प्यारा घरेलू नाम और एक वैश्विक घटना बन गया।

Success story: पारले-जी की उत्पत्ति

पारले-जी की यात्रा 1929 में शुरू हुई, जब महात्मा गांधी के नेतृत्व में स्वदेशी आंदोलन अपने चरम पर था। गुजरात के एक दर्जी मोहनलाल दयाल ने विदेशी वस्त्रों की जगह देश में बने उत्पादों का समर्थन करने का सपना देखा। उन्होंने जनसामान्य के लिए सस्ती मिठाइयां बनाने का संकल्प लिया और कन्फेक्शनरी व्यवसाय में कदम रखा।

दयाल जर्मनी गए और वहां से टॉफ़ी बनाने की कला सीखकर एक मशीन भारत लाए। उन्होंने मुंबई के उपनगर विले पारले में अपनी फैक्ट्री स्थापित की, जो बाद में ब्रांड का नाम बना: पारले।

पारले-जी की यात्रा में प्रमुख पड़ाव

वर्षमील का पत्थर
1929मोहनलाल दयाल ने विले पारले, मुंबई में फैक्ट्री स्थापित की।
1939पारले ने अपना पहला बिस्किट, पारले ग्लूको, बाजार में लॉन्च किया।
1947आजादी के बाद गेहूं की कमी के कारण पारले ने जौ के बिस्किट पेश किए।
1960ग्लूको नाम की नकल करने वाले प्रतिस्पर्धियों का सामना करने पर पारले ने रणनीतिक रूप से पुनः ब्रांडिंग की।
1982पारले ग्लूको को पारले-जी के रूप में पुनः ब्रांडेड किया गया, जिसमें पैकेजिंग पर प्यारी सी बच्ची का चित्र था।
1998पारले-जी ने शक्तिमान जैसी रणनीतिक प्रायोजन के साथ सबसे अधिक पहचानने योग्य ब्रांडों में से एक बन गया।
2013पारले-जी का वार्षिक कारोबार ₹5000 करोड़ से अधिक हो गया।
2020COVID-19 लॉकडाउन के दौरान, पारले-जी की बिक्री में जबरदस्त वृद्धि हुई, जो इसकी स्थायी लोकप्रियता को दर्शाती है।

प्रमुखता की ओर बढ़ना

बिस्किट बाजार में क्रांति

1939 में सस्ते बिस्किट्स की शुरुआत करना पारले-जी का खेल बदलने वाला कदम था। उस समय, बिस्किट्स को एक लग्जरी आइटम माना जाता था, जो मुख्य रूप से ब्रिटिश और भारतीय अभिजात वर्ग द्वारा ही खाया जाता था। पारले-जी ने बिस्किट्स को आम आदमी तक पहुंचाया। ब्रांड की गुणवत्ता और सस्ती कीमतों के प्रति प्रतिबद्धता ने लोगों के दिलों को जीत लिया।

भारतीय मूल्यों को अपनाना

शुरुआत में, भारतीय बाजार में ज्यादातर बिस्किट्स को अंडों के उपयोग के कारण गैर-शाकाहारी माना जाता था। पारले-जी ने इस चिंता का समाधान करते हुए बताया कि उनके बिस्किट्स दूध से बने हैं और सभी समुदायों के लिए उपयुक्त हैं। इस दृष्टिकोण ने पारले-जी को विशेष रूप से हिंदू समुदाय में व्यापक स्वीकृति दिलाई।

गुप्त फॉर्मूला और स्थिरता

पारले-जी की सफलता का एक राज उसकी लगातार गुणवत्ता और सस्ती कीमतें रही हैं। दशकों से कच्चे माल की लागत और आर्थिक परिवर्तनों के बावजूद, पारले-जी ने अपनी कीमतों को स्थिर रखा है, अक्सर ग्राहकों की वफादारी बनाए रखने के लिए लागत को खुद सहा है।

मूल्य निर्धारण रणनीति

पारले-जी की कम कीमतें बनाए रखने की रणनीति उसकी सफलता में महत्वपूर्ण रही है। हालांकि वर्षों में महंगाई और उत्पादन लागत बढ़ी है, पारले-जी ने पैकेज प्रति मात्रा को थोड़ा कम करके उत्पाद को सस्ता बनाए रखा है।

वर्षकीमत (रुपये)वजन (ग्राम)
1990 का दशक4100
2000 का दशक590
2010 का दशक575
2020 का दशक555

मार्केटिंग के मास्टर स्ट्रोक

प्रतिष्ठित ब्रांडिंग

पारले-जी की ब्रांडिंग उसकी सफलता में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। 1982 में प्यारी सी बच्ची की चित्र वाली पैकेजिंग का परिचय कराया गया, जिसने उपभोक्ताओं के मन में स्थायी छवि बना दी। यह चित्र ब्रांड के साथ जुड़ गया और विश्वास और परिचय का प्रतीक बन गया।

आकर्षक विज्ञापन

सालों से, पारले-जी ने यादगार विज्ञापन अभियानों का संचालन किया है, जिन्होंने भारतीय परिवारों के साथ तालमेल बिठाया। संगीतमय जिंगल्स, शक्तिमान जैसे प्रिय पात्रों के साथ जुड़ाव, और पारले-जी को ‘प्रतिभाशाली’ स्नैक के रूप में चित्रित करने ने इसके स्थायी आकर्षण में योगदान दिया है।

वैश्विक पहुंच और पहचान

पारले-जी का प्रभाव भारत से परे भी है। यह बिस्किट अमेरिका, ब्रिटेन, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड सहित कई देशों में लोकप्रिय है। पारले-जी की विदेशों में निर्माण इकाइयां सुनिश्चित करती हैं कि यह प्यारा बिस्किट दुनिया भर के प्रशंसकों तक पहुंचे। दिलचस्प बात यह है कि चीन में भी पारले-जी सबसे लोकप्रिय बिस्किट्स में से एक है।

उत्पादों में विविधता

पारले-जी की सफलता के बावजूद पारले प्रोडक्ट्स रुकी नहीं रही। कंपनी ने बिस्किट्स, कैंडी और स्नैक्स की एक विस्तृत श्रृंखला के साथ अपने पोर्टफोलियो का विस्तार किया है।

पारले के पोर्टफोलियो में प्रमुख उत्पाद

उत्पादलॉन्च वर्षविवरण
पारले-जी1939सस्ती और स्वादिष्ट ग्लूकोज बिस्किट, कंपनी का प्रमुख उत्पाद।
मोनाको1942चाय के समय के लिए लोकप्रिय नमकीन क्रैकर।
क्रैकजैक1970 का दशकभारत का पहला मीठा और नमकीन बिस्किट।
मेलोडी1960 का दशकचॉकलेट भरने वाला कारमेल टॉफ़ी।
हाइड एंड सीक1990 का दशकबच्चों और बड़ों के बीच जल्दी ही लोकप्रिय हो जाने वाला चॉकलेट चिप कुकी।
पॉपीन्स1960 का दशकरंगीन कैंडी, बच्चों के बीच पसंदीदा।
किसमी टॉफ़ी1970 का दशकएक विशेष स्वाद वाली कारमेल कैंडी, जिसे पीढ़ियों से सराहा गया है।

नवाचार और अनुकूलन

बदलती उपभोक्ता पसंद के साथ अनुकूलन

पारले ने उपभोक्ता के बदलते स्वादों के अनुसार अपने उत्पादों की पेशकशों को लगातार विकसित किया है। 1938 में मोनाको की शुरुआत से लेकर 1990 के दशक में हाइड एंड सीक के लॉन्च तक, पारले ने बाजार के रुझानों को बखूबी समझा है।

रणनीतिक गठबंधन और उत्पादन

बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए पारले ने भारत भर में स्थानीय बेकरी के साथ साझेदारी की है। इस रणनीति ने न केवल उत्पादन को बढ़ावा दिया, बल्कि यह भी सुनिश्चित किया कि पारले-जी बिस्किट्स देश के सबसे दूरदराज के क्षेत्रों में भी उपलब्ध हों।

निष्कर्ष

पारले-जी की विले पारले की एक छोटी फैक्ट्री से दुनिया का सबसे अधिक बिकने वाला बिस्किट बनने की यात्रा ब्रांड की दृष्टि, नवाचार और अपने उपभोक्ताओं के साथ गहरे संबंध का प्रमाण है। जैसे-जैसे पारले-जी प्रतिस्पर्धी बाजार में आगे बढ़ रहा है, इसकी कहानी यह साबित करती है कि कैसे एक साधारण उत्पाद राष्ट्रीय और वैश्विक धरोहर बन सकता है।

चाहे चाय के साथ हो, दोस्तों के साथ साझा किया जाए, या स्कूल के लंचबॉक्स में रखा जाए, पारले-जी लाखों लोगों के लिए खुशी लाता रहता है, इसे सिर्फ एक स्नैक नहीं बल्कि एक भावना बनाता है।

Read more: Post Office Monthly Income Scheme 2024: इस तरह पोस्ट ऑफिस देगा 11,500 रुपये

Leave a comment