सरकारी योजना/भर्ती ग्रुप

Krishi Sakhi Yojana 2024: 90,000 देश की महिलाओं को मिलेगी ट्रेनिंग, 80,000 हर महीने तक कमाएंगी

Krishi Sakhi Yojana 2024: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने “कृषि सखी योजना” का आरंभ किया है। इस योजना का मुख्य उद्देश्य महिलाओं को आधुनिक कृषि तकनीकों और उन्नत खेती के तरीकों का प्रशिक्षण देकर उन्हें सशक्त बनाना है।

15 जून 2024 को वाराणसी में, प्रधानमंत्री मोदी ने इस योजना का औपचारिक शुभारंभ किया और इस मौके पर कृषि सखियों को प्रमाणपत्र भी प्रदान किए। इस पहल के माध्यम से, ग्रामीण क्षेत्रों की महिलाओं को कृषि में सक्रिय रूप से भाग लेने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा, जिससे वे अपने जीवन स्तर में सुधार ला सकें और आत्मनिर्भर बन सकें।

तो चलिए, जानते हैं कि “कृषि सखी योजना” का वास्तविक उद्देश्य क्या है, इससे किसानों को क्या लाभ मिलेगा, और कितनी महिलाओं को प्रशिक्षण दिया जाएगा? इन सभी पहलुओं की विस्तार से जानकारी के लिए पूरा लेख पढ़ें।

Krishi Sakhi Yojana Highlight

योजना का नामKrishi Sakhi Yojana
संबंधित विभागकृषि और ग्रामीण विकास मंत्रालय  
लाभार्थीदेश की महिलाएं  
लाभग्रामीण इलाकों की बहनों को प्रशिक्षण देकर कृषि सखी तैयार करना
आधिकारिक वेबसाइटजल्द लॉन्च

Krishi Sakhi Yojana 2024: उद्देश्य

कृषि सखी योजना की शुरुआत भारत सरकार द्वारा इस उद्देश्य से की गई है कि किसानों को तकनीकी ज्ञान और आवश्यक समर्थन प्राप्त हो सके। इस योजना के तहत, कई ग्रामीण महिलाओं को प्रशिक्षण देकर कृषि सखी के रूप में तैयार किया जाएगा। यह महिलाएं खेती के विभिन्न कार्यों में किसानों का सहयोग करेंगी और सालाना 60,000 से 80,000 रुपये तक की अतिरिक्त आय अर्जित कर सकेंगी।

यह पहल न केवल कृषि क्षेत्र में महिलाओं की भागीदारी को बढ़ावा देगी बल्कि उन्हें आत्मनिर्भर और सशक्त बनाकर उनके जीवन स्तर में सुधार लाने में भी मदद करेगी।

किसानों की मदद और अतिरिक्त आय का स्रोत

कृषि सखी योजना के माध्यम से, ग्रामीण महिलाओं को कृषि विशेषज्ञता का व्यापक प्रशिक्षण दिया जा रहा है। इस प्रशिक्षण से महिलाओं का खेती में योगदान बढ़ेगा और उन्हें ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार के अवसर भी मिलेंगे।

इस योजना के तहत, ऐसी महिलाओं को चुना जाएगा जिनके पास खेती का ज्ञान है और जो किसानों को प्रभावी ढंग से सहायता और मार्गदर्शन प्रदान कर सकें। इससे न केवल किसानों को लाभ होगा, बल्कि उनके परिवारों की आय में भी वृद्धि होगी।

महिलाओं के लिए आर्थिक अवसर

कृषि मंत्रालय द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार, प्रशिक्षण प्राप्त करने वाली महिलाएं एक वर्ष में 60,000 से 80,000 रुपये तक की कमाई कर सकती हैं। अब तक 70,000 में से 34,000 महिलाओं को पैरा एक्सटेंशन एक्टिविस्ट के रूप में प्रमाणित किया जा चुका है, जो यह दर्शाता है कि यह योजना कितनी सफल और प्रभावी है।

पहले चरण में इन राज्यों में शुरू होगी कृषि सखी योजना

केंद्र सरकार का लक्ष्य देश की तीन करोड़ महिलाओं को सरकारी योजनाओं के माध्यम से लखपति बनना है जिनमें से एक करोड़ महिलाओं का लक्ष्य प्राप्त किया जा चुका है बाकी 2 करोड़ महिलाओं को कृषि सखी योजना के माध्यम से सशक्त और स्वतंत्र बनाया जाएगा।

महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने के लिए कृषि और ग्रामीण मंत्रालय मिलकर इस योजना को चलाएंगे। एक समझौता ज्ञापन पर भी इन दोनों मंत्रालय ने हस्ताक्षर किया है। देश के 12 राज्यों में कृषि सखी योजना का पहला चरण शुरू कर दिया गया है। जोकि निम्नलिखित हैं।

  • गुजरात
  • उत्तर प्रदेश
  • मध्य प्रदेश
  • छत्तीसगढ़
  • कर्नाटक
  • महाराष्ट्र
  • तमिलनाडु
  • ओडिशा
  • राजस्थान
  • मेघालय
  • आंध्र प्रदेश
  • झारखंड

Krishi Sakhi Yojana 2024: ट्रेनिंग

केंद्र सरकार की कृषि सखी योजना का प्रमुख उद्देश्य है किसानों को उन्नत तकनीकी ज्ञान और आवश्यक समर्थन प्रदान करना। इस दिशा में, कई ग्रामीण महिलाओं को प्रशिक्षण देकर उन्हें कृषि सखी के रूप में तैयार किया जा रहा है। ये कृषि सखियां खेती के विभिन्न कार्यों में किसानों की मदद करेंगी, जिससे उनकी कृषि गतिविधियाँ और भी प्रभावी बनेंगी।

इस योजना के तहत, प्रशिक्षित महिलाएं सालाना 60,000 से 80,000 रुपये तक की अतिरिक्त आय अर्जित कर सकेंगी। यह न केवल कृषि क्षेत्र में महिलाओं की भागीदारी को बढ़ावा देगा, बल्कि उन्हें आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर और सशक्त बनाने में भी सहायक होगा।

Krishi Sakhi Yojana 2024: कमाई

कृषि सखी योजना के माध्यम से किसानों को कृषि विशेषज्ञता की उपलब्ध कराना है जिसके लिए ग्रामीण महिलाओं को प्रशिक्षण दिया जा रहा है इससे एक तरफ महिलाओं का खेती में दखल बढ़ेगा तो दूसरी और ग्रामीण रोजगार में महिलाओं को भी रोजगार उपलब्ध होगा।

साथ ही इस योजना के माध्यम से किसान परिवारों की आय में बढ़ोतरी होगी। क्योंकि इस योजना के तहत कृषि सखी के लिए उन महिलाओं को चयनित किया जाएगा जिन्हें खेती की समझ है। इस योजना के माध्यम से कृषि सखियों को विभिन्न कृषि पद्धतियों के बारे में व्यापक प्रशिक्षण दिया जाएगा। जिससे किसानों को प्रभावित ढंग से सहायता और मार्गदर्शन देने के लिए अच्छी तरह से सुसज्जित होगी।

कृषि मंत्रालय की ओर से दी गई जानकारी अनुसार महिलाएं 1 वर्ष में 60 हजार से 80 हजार रुपए तक की कमाई कर सकती है। आपको बता दें कि अब तक 70,000 में से 34,000 कृषि सखियों को पैरा एक्सटेंशन एक्टिविस्ट के तौर पर सर्टिफिकेट दिया जा चुका है। 

Krishi Sakhi Yojana 2024: दस्तावेजों की सूची

  • आधार कार्ड
  • पहचान पत्र 
  • निवास प्रमाण पत्र
  • आय प्रमाण पत्र
  • जाति प्रमाण पत्र
  • मोबाइल नंबर
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • बैंक खाता पासबुक 

Krishi Sakhi Yojana apply online

कृषि शक्ति योजना के तहत आवेदन करने के लिए आपको सबसे पहले अपने निकटतम कृषि विभाग के कार्यालय में जाना होगा। वहां पहुँचने पर, आपको कृषि सखी योजना का आवेदन फॉर्म प्राप्त करना होगा।

  1. आवेदन फॉर्म प्राप्त करें: अपने नजदीकी कृषि विभाग के कार्यालय में जाकर कृषि सखी योजना का आवेदन फॉर्म लें।
  2. फॉर्म भरें: आवेदन फॉर्म लेने के बाद, उसमें पूछी गई सभी जानकारी को सावधानीपूर्वक भरें।
  3. दस्तावेज़ संलग्न करें: फॉर्म में मांगे गए सभी आवश्यक दस्तावेज़ों को संलग्न करें।
  4. फॉर्म जमा करें: सभी जानकारियाँ भरने और दस्तावेज़ संलग्न करने के बाद, फॉर्म को वापस उसी कार्यालय में जमा कर दें, जहां से आपने इसे प्राप्त किया था।
  5. रसीद प्राप्त करें: आवेदन फॉर्म जमा करते समय, आपको एक रसीद दी जाएगी। इस रसीद को सुरक्षित रखना आवश्यक है।
  6. जांच और चयन: आपके आवेदन फॉर्म की संबंधित अधिकारी द्वारा जांच की जाएगी। यदि आपका आवेदन सही पाया जाता है, तो आपको कृषि सखी के रूप में चयनित किया जाएगा।

Read more: E Shram Card Pension Yojana 2024: ₹3000 मासिक पेंशन ई-श्रम कार्ड धारकों को मिलेगी, ऐसे करना होगा आवेदन

Krishi Sakhi Yojana में कैसे आवेदन करें?

कृषि शक्ति योजना के तहत आवेदन करने के लिए आपको सबसे पहले अपने निकटतम कृषि विभाग के कार्यालय में जाना होगा। वहां पहुँचने पर, आपको कृषि सखी योजना का आवेदन फॉर्म प्राप्त करना होगा।

Krishi Sakhi Yojana में कितना पैसा मिलता है?

इस योजना के तहत, कई ग्रामीण महिलाओं को प्रशिक्षण देकर कृषि सखी के रूप में तैयार किया जाएगा। यह महिलाएं खेती के विभिन्न कार्यों में किसानों का सहयोग करेंगी और सालाना 60,000 से 80,000 रुपये तक की अतिरिक्त आय अर्जित कर सकेंगी।

Leave a comment