सरकारी योजना/भर्ती ग्रुप

Latest Business Ideas: छोटे गाँव से शुरू किया बिज़नस, आज साल का 2 करोड़ कमा रहे

Latest Business Ideas: महाराष्ट्र के छत्रपति संभाजीनगर के खुर्ताबाद तालुका के बाजार संगवी गांव में एक किसान, संदीप नलड़ा, ने एक अनोखा डेरी प्लांट स्थापित किया है जिसे “आदर्श डेरी फार्म” नाम दिया गया है। यह प्लांट न केवल विभिन्न डेरी उत्पादों का उत्पादन करता है बल्कि स्थानीय कृषि और किसानों को भी सहयोग देता है। आइए जानते हैं इस प्लांट के बारे में और इसकी विशेषताओं के बारे में विस्तार से।

Latest Business Ideas: यात्रा की शुरुआत

तीन साल पहले, संदीप नालदा का सपना था – उच्च गुणवत्ता वाले डेयरी उत्पाद बनाना जो न केवल स्थानीय बाजार में बल्कि बड़े पैमाने पर भी प्रतिस्पर्धा कर सकें। उन्होंने एक छोटे, मैन्युअल सेटअप से दही बनाने की शुरुआत की। जल्द ही उन्होंने विस्तार की संभावनाओं को देखा, क्योंकि पास के किसानों से दूध की भरपूर आपूर्ति मिल रही थी। आज, आदर्श डेयरी फार्म लस्सी, पनीर, बासुंदी और विभिन्न प्रकार की कुल्फियों सहित कई डेयरी उत्पादों को प्रोसेस और पैकेज करता है।

आधुनिक तकनीक और परंपरागत गुणवत्ता का संगम

आदर्श डेयरी फार्म अर्ध-स्वचालित मशीनरी का उपयोग करता है जो प्रति घंटे 1,000 पाउच बना सकती है। तकनीक और परंपरा का यह मिश्रण फार्म को उच्च गुणवत्ता बनाए रखने के साथ-साथ बाजार की बढ़ती मांग को पूरा करने में सक्षम बनाता है।

  1. दही उत्पादन: उनके लस्सी की शुरुआत उच्च गुणवत्ता वाले दूध से होती है, जिसे पाश्चराइज और होमोजेनाइज किया जाता है। फिर इसे एक एजिंग टैंक में कल्चर के साथ मिलाया जाता है ताकि इसे 42-45 डिग्री सेल्सियस तापमान पर लगभग पांच घंटे तक जमाया जा सके।
  2. लस्सी पैकेजिंग: जब दही जम जाता है, तो इसे लस्सी बनाने के लिए ब्लेंड किया जाता है और फिर 200 मिलीलीटर के पैक्स में एक स्वचालित फिलिंग टैंक का उपयोग करके भरा जाता है। इन पैक्स को सील, लेबल और बाज़ार में भेजा जाता है।
  3. कुल्फी निर्माण: आदर्श डेयरी फार्म प्राकृतिक कुल्फी बनाने में भी माहिर है। उच्च गुणवत्ता वाले खोया और प्राकृतिक स्वादों का उपयोग करके वे प्रति 15 मिनट में 500 कुल्फी तक बनाते हैं और इसे -25 डिग्री सेल्सियस तापमान पर ठंडा किया जाता है।

प्लांट की विशेषताएं और उपकरण

आदर्श डेरी फार्म में अत्याधुनिक उपकरण और मशीनें स्थापित की गई हैं। यहां पर प्रिंटिंग मशीनें भी हैं जो उत्पादों पर मैन्युफैक्चरिंग डेट, एमआरपी और बैच नंबर प्रिंट करती हैं। ये मशीनें लगभग 35 लाख रुपये की लागत की हैं। प्लांट में कोल्ड स्टोरेज की भी व्यवस्था है, जहां पर उत्पादों को ठंडा रखा जाता है ताकि उनकी ताजगी बनी रहे।

निवेश और व्यावसायिक मॉडल

संदीप जी का मानना है कि डेरी फार्मिंग को छोटे निवेश के साथ भी शुरू किया जा सकता है। उन्होंने बताया कि 5000 रुपये से एक लाख रुपये के बीच निवेश के साथ एक छोटा डेरी सेटअप शुरू किया जा सकता है। धीरे-धीरे बाजार की मांग के अनुसार उत्पादों की संख्या बढ़ाई जा सकती है।

मार्केटिंग और वितरण

आदर्श डेरी फार्म के उत्पाद स्थानीय और क्षेत्रीय बाजारों में बेचे जाते हैं। प्लांट से उत्पादों की ताजगी सुनिश्चित करने के लिए उन्हें तुरंत ही अगले दिन बाजार में वितरित कर दिया जाता है। प्लांट में कुल्फी, लस्सी, दही, और अन्य डेरी उत्पादों के लिए विशेष कोल्ड रूम और फ्रीजर की व्यवस्था है।

नवाचारी उत्पाद और प्रक्रियाएं

आदर्श डेयरी फार्म केवल पारंपरिक डेयरी उत्पादों तक सीमित नहीं है। संदीप नालदा और उनकी टीम ने स्वादयुक्त गन्ने के रस के पॉप्सिकल जैसे अनूठे उत्पाद बनाने की ओर कदम बढ़ाया है। ये पॉप्सिकल अदरक और नींबू जैसे विभिन्न स्वादों में आते हैं और अपने ताजगी भरे और नवाचारी स्वाद के लिए बाजार में लोकप्रिय हैं।

उनकी गुणवत्ता के प्रति प्रतिबद्धता उनके सभी उत्पादों में दिखाई देती है, जो उपभोक्ताओं तक पहुंचने से पहले सरकारी लैब्स में कड़े परीक्षण से गुजरते हैं। यह सुनिश्चित करता है कि आदर्श डेयरी फार्म का हर उत्पाद न केवल स्वादिष्ट हो बल्कि सुरक्षित और स्वास्थ्यप्रद भी हो।

छोटे पैमाने से बड़ा विस्तार

आदर्श डेयरी फार्म का सबसे प्रेरणादायक पहलू उसका स्केलेबल मॉडल है। संदीप बताते हैं कि सिर्फ ₹1-2 लाख के निवेश के साथ छोटे किसान भी अपने डेयरी प्रोसेसिंग यूनिट्स शुरू कर सकते हैं। प्रारंभ में एक या दो उत्पादों पर ध्यान केंद्रित करके, वे धीरे-धीरे बाजार की मांग के अनुसार विस्तार कर सकते हैं।

इस दृष्टिकोण ने आदर्श डेयरी फार्म को अपने उत्पादों की विविधता बढ़ाने में सक्षम बनाया है। लस्सी और दही से लेकर पनीर और बासुंदी तक, उनके उत्पाद रेंज में वर्षों में काफी विस्तार हुआ है, जिससे विभिन्न स्वादों और प्राथमिकताओं को पूरा किया जा सकता है।

मौसमी संचालन और कार्यबल

आदर्श डेयरी फार्म सबसे अधिक सक्रिय होता है जनवरी से जून के बीच की पीक सीज़न के दौरान, जब लस्सी और कुल्फी जैसे उत्पादों की मांग बढ़ जाती है। हालांकि, उन्होंने ऑफ-सीज़न में पनीर और बासुंदी जैसे उत्पादों पर ध्यान केंद्रित करके साल भर की गतिविधियों को बनाए रखा है। यह अनुकूलता सुनिश्चित करती है कि फार्म पूरे साल उत्पादक बना रहे।

पीक सीज़न के दौरान लगभग आठ कर्मचारियों की एक समर्पित टीम के साथ, फार्म कुशलता से उत्पादन और पैकेजिंग का प्रबंधन करता है ताकि बाजार की मांगों को पूरा किया जा सके। कर्मचारी विभिन्न डेयरी प्रोसेसिंग के पहलुओं में प्रशिक्षित होते हैं, जिससे सुचारू संचालन और उच्च गुणवत्ता का उत्पादन सुनिश्चित होता है।

निष्कर्ष

आदर्श डेयरी फार्म यह दर्शाता है कि ग्रामीण उद्यमिता, आधुनिक तकनीक और गुणवत्ता के प्रति प्रतिबद्धता कैसे स्थानीय डेयरी फार्मिंग को एक सफल व्यवसाय में बदल सकती है। संदीप नालदा की छोटी शुरुआत से एक बहुउत्पाद डेयरी प्रोसेसिंग यूनिट तक की यात्रा यह साबित करती है कि छोटे पैमाने की पहलें ग्रामीण क्षेत्रों में आर्थिक विकास और नवाचार को आगे बढ़ाने की क्षमता रखती हैं।

Read more: Village Business ideas: गाँव में रह कर इनका ऑनलाइन बिज़नस करें, 1 लाख तक आराम से कमाए

Leave a comment